सेहत

सिरदर्द से प्रभावित होने वाले प्रमुख अंग तथा सिर के पिछले हिस्से में दर्द का इलाज

सिर के पिछले हिस्से का दर्द

प्रभावित अंगों के आधार पर सिरदर्द प्रमुख रूप से 5 प्रकार के होते है. आइये जानते है क्या है सिर के पिछले हिस्से में दर्द का इलाज. 

वास्तव में दर्द एक प्रकार का संकेत होता है जो हमारे शरीर में चल रहे किसी प्रकार के विकार अथवा कमी की ओर इशारा करता है. दर्द शरीर के किसी भी जीवित अंग को कभी भी प्रभावित कर सकता है यदि उस अंग विशेष में किसी प्रकार की कोई आंतरिक या बाह्य क्षति हुई है तो. सिर का दर्द भी इसी तरह की शारीरिक कमी को दर्शाता है. 

आइये जानते है क्या है सिर के पिछले हिस्से में दर्द का कारण व इलाज 

सिर के पिछले हिस्से का दर्द

सिर के पिछले हिस्से का दर्द, सिर में होने वाले प्रमुख दर्द में से एक है. यह दर्द आम तौर पर सभी आयु वर्ग के लोगो को प्रभावित करता है तथा कुछ विशेष स्थितियों में गंभीर रूप भी धारण कर सकता है. 

सिर के पिछले हिस्से में दर्द के प्रमुख कारण;

पश्चकपाल तंत्रिकाशूल 

अपने नाम के अनुसार ही यह दर्द पश्चकपाल नशो में होने वाले दर्द के कारण होता है. शुरुआत में यह दर्द सिर के पिछले हिस्से में महसूस किआ जाता है जबकि अधिक समय तक इलाज न होने पर यह फैलते हुए धीरे-धीरे सिर के अगले भाग तक आ जाता है. पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस, रक्त वाहिका सूजन, तंत्रिका जड़ो को प्रभावित करने वाले ट्यूमर और संक्रमण आदि इसके प्रमुख कारण हो सकते है. 

क्लस्टर सिरदर्द 

वास्तव में यह दर्द माइग्रेन का ही एक प्रकार है जो सिर के किसी भी हिस्से को प्रभावित कर सकता है. लगभग एक चौथाई से भी अधिक पीड़ित व्यक्ति, इस दर्द का अनुभव सिर के पिछले हिस्से में महसूस करते है. कई बार यह दर्द अत्यधिक पीड़ा-दायक भी हो सकता है. 

साइनसाइटिस सिर का दर्द

यह दर्द प्रमुख रूप से चेहरे और माथे पर महसूस किये जाते है, हांलाकि, कभी कभी इस प्रकार के दर्द का अनुभव सिर के पिछले हिस्से में भी स्पष्ट रूप से दिखाई देता है. साइनसाइटिस साइनस की सूजन की वजह से होता है. 

तनाव द्वारा सिरदर्द  

आधुनिक रिसर्च के अनुसार लोगो में तनाव सिरदर्द की सम्भावना लगातार बढ़ती ही जा रही है. वास्तव में यह सिरदर्द लोगो की जीवनशैली में हो रहे परिवर्तनों और लोगो के मस्तिष्क की थकान के कारण पेश आते है. 

दिमागी बुखार सिर के पिछले हिस्से का दर्द

सिर के पीछे का दर्द दिमागी बुखार की वजह से भी देखने को मिल सकता है. इस प्रकार का दर्द हमारी नसों को बहुत अधिक नुकसान पहुँचाता है. इस रोग का मुख्य लक्षण अत्यधिक तेज बुखार का आना होता है. 

खांसी

कभी कभी खांसी भी सिरदर्द का कारण हो सकती है. सिरदर्द का यह प्रकार एक जन्म जात विकृति के कारण देखने को मिलता है. जबकि ज्यादातर मामलो में शोधकर्ताओ को इस बारे में कोई स्पष्ट जानकारी नही होती है. 

*पश्च भाग के अलावा, सिर के एक तरफ का दर्द, माथे का दर्द, सिर में खिंचाव, तथा कनपटी का दर्द भी सिर दर्द के प्रमुख प्रकारों में सम्मिलित किये जाते है. 

सिर के पिछले हिस्से का दर्द

चिकित्सक इस प्रकार के दर्द का इलाज विभिन्न प्रकार से कर सकते है, किंतु किसी भी प्रकार की चिकित्सा विधि को लागू करने से पहले उनके लिए आपके दर्द के पीछे प्रमुख कारण का पता करना अत्यंत आवश्यक होगा. यद्यपि, किसी भी प्रकार के सिर दर्द के इलाज के लिए मानसिक शांति का होना अत्यंत आवश्यक है. आपके चिकित्सक आपको आराम लेने की सलाह के साथ ही साथ कुछ अन्य दवाएँ आदि भी लेने का सुझाव दें सकते है. इसके अलावा दर्द के रूट कॉज का इलाज करना भी डॉक्टर की प्राथमिकता में शामिल रहता है. 

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button